शुक्रवार, 27 अगस्त 2010

पैमाना

गिरा हाथ से तो टूट गया पैमाना शीशे का
देर तक याद रहा उसमें बचा इक मय का कतरा...

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें