शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

मीठेश निर्मोही जी

कल मित्र प्रेमचंद गाँधी के साथ बैंक में मीठेश निर्मोही जी से मिलने का सुअवसर मिला। वे मिठास से परिपूरण व्यक्ति हैं। मिलकर अच्छा लगा। कुछ चर्चा हुई, कुछ गपशप। छोटी-छोटी मुलाकातें कितनी जरूरी हैं जिंदगी के लिए, बड़ी-बड़ी बातों की बजाय....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें