गुरुवार, 2 सितंबर 2010

जन्माष्टमी

आज कान्हा का जन्मदिन है। उसकी देवकी मां ने उसे बुलाया है, अपने पास जन्मदिन मनाने। यशोदा मां का दिल धक्-धक् कर रहा है। वह कान्हा को रोकना नहीं चाहती। कान्हा की ख़ुशी में ही उसकी ख़ुशी है पर मां का दिल ठहरा.... मुझे नहीं पता कि कान्हा जन्मदिन कहाँ मनायेगा...शायद आपको पता हो....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें